Sunday, 4 September 2016

तुम काफिले मुहब्बत के कुछ देर रोक लो, 

आते हैं हम भी पाँव से काँटे निकाल कर |

-अशोक निर्दोष की फेसबुक बॉल से

No comments:

Post a Comment